बिहार में बालू की कमी दूर होने वाली है बता दें कि बिहार में नए बंदोबस्त धारियों से बालू खनन की योजना है। बिहार के 35 जिले के 900 बालू घाटों की बंदोबस्ती सहित पर्यावरणीय स्वीकृति प्रक्रिया भी सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर चल रही है, आपको बता दें कि 25 दिसंबर 2022 तक कोट नहीं बंदोबस्ती पूरा करने और सिया बिहार को 3 महीने के भीतर बालू घाटों पर्यावरणीय मंजूरी देने की समय सीमा तय किया है। बिहार राज्य खनन निगम के द्वारा तब तक राज्य में बालू खनन के लिए पुराने बंदोबस्त धारियों से 25 दिसंबर 2022 तक खनन की अनुमति दिया है।

खान एवं भूतत्त्व विभाग निर्माण कार्यों को जारी रखने के लिए 25 दिसंबर बंदोबस्त धरियो द्वारा खनन शुरू होने तक सभी कार्य विभाग सहित 10 विभाग को निगम के माध्यम से बालू खरीद कर भंडार करने की अपील किया है।

खबर के अनुसार खान एवं भूतत्व विभाग अपने सभी कार्य विभागों से यह भी कहा है कि अगर कोई विभाग निगम के माध्यम से अपने स्तर पर बालू खनन करना चाहते हैं तो विभाग इसके लिए भी अनुमति दे सकता है। इससे संबंधित विभाग के द्वारा सभी कार्य विभागों से इस बात से तुरंत पहल करने की अपील किया है। आपकी जानकारी के लिए बता देगी 900 बालू घाटों की बंदोबस्ती की प्रक्रिया राज्य में जिला स्तर पर की जा रही है ज़्यादातर बालू घाटों की बंदोबस्ती हो चुकी है।

Rajan Sharma

Our motive to spread genuine and verified news of all over India.