उत्तर प्रदेश के छात्र अब पुलवामा हमला और सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में पढ़ेंगे। नई शिक्षा नीति 2020 के तहत पाठ्यक्रम में संशोधन किया गया है।मीडिया रिपोर्ट के अनुसार आपको बता दे कि, उत्तर प्रदेश राज्य विश्वविद्यालयों में रक्षा अध्ययन विषय के छात्र 2019 में हुए पुलवामा हमला और सर्जिकल स्ट्राइक को पढ़ेंगे। बता दें कि, नई शिक्षा नीति 2020 के तहत पाठ्यक्रम में संशोधन किया गया है। यही नहीं इसके साथ ही छात्रों को त्रेता युग से लेकर अब तक के युद्धों में देश के जवानों को मिली जीत की गाथा भी पढ़ाया जाएगा। जानकारी के अनुसार, सरकार की तरफ से रक्षा अध्ययन का पाठ्यक्रम तैयार करने के लिए तीन सदस्यीय कमेटी गठित की गई है।

रिपोर्ट के अनुसार इसमें रक्षा विशेषज्ञ एवं इलाहाबाद विश्वविद्यालय के रक्षा अध्ययन विभाग के अध्यक्ष प्रोफ़ेसर प्रशांत अग्रवाल भी शामिल है। प्रो. प्रशांत अग्रवाल के अनुसार फाउंडेशन और ऐच्छिक विषय भी शुरू किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि राज्य के विश्वविद्यालयों में 70 फ़ीसदी पाठ्यक्रम एक समान होंगे, जबकि 30 फ़ीसदी पाठ्यक्रम विश्वविद्यालय स्वयं तैयार करें। पाठ्यक्रम को तैयार करके शासन को भेज दिया गया है।

जानकारी के अनुसार आपको बता दें,  तैयार  किए गए तीन फाउंडेशन कोर्स,  भाषा, (हिंदी व अंग्रेजी), युद्ध की अवधारणा को शामिल किया गया है। वही ऐच्छिक विषय के रूप में आपदा प्रबंधन, पर्यावरण परिवर्तन और समस्या, भारतीय युद्ध कला, अंतरराष्ट्रीय संबंध, राष्ट्रीय सुरक्षा के सैद्धांतिक पक्ष, युद्ध का चिंतन, युद्ध का विज्ञान एवं तकनीक से संबंध को शामिल किया गया है।  बता दें कि भारतीय रक्षा संगठन, राष्ट्रीय सुरक्षा की अर्थव्यवस्था, विश्व का वर्तमान वातावरण, भू-राजनीति तथा भौगोलिक सैन्य,  भारत की परंपरागत सुरक्षा एवं चुनौतियों का पाठ्यक्रम का हिस्सा होगा।  स्टूडेंट्स को सीमा का टूर अथवा ऑनलाइन कोर्स कराया जाएगा।

Rajan Sharma

Our motive to spread genuine and verified news of all over India.