RBI, 1 दिसम्बर को लॉन्च करेगा Digital Rupees, जानिए कैसे होगा इसका इस्तेमाल

भारतीय रिजर्व बैंक के द्वारा पहला रिटेल डिजिटल रुपया लांच किया जा रहा है,डिजिटल रिटेल रुपया 1 दिसंबर से लांच होगा। आपको बता दें कि रिटेल डिजिटल करेंसी के लिए पहला पायलट प्रोजेक्ट होगा। इसका इस्तेमाल कैसे होगा आइए जानते है-

आपको बता दें कि इसका इस्तेमाल लेनदेन के लिए किया जा सकता है जैसे की हमने आपको ऊपर बता दिया था कि रिटेल डिजिटल करेंसी के लिए यह पहला पायलट प्रोजेक्ट होगा, पायलट के दौरान डिजिटल रुपए का निर्माण, डिस्ट्रीब्यूशन, और रिटेल इस्तेमाल की पूरी प्रक्रिया की टेस्टिंग की जाएगी। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि 1 नवंबर को केंद्रीय बैंक ने होलसेल ट्रांजैक्शन के लिए डिजिटल रुपए को लांच किया था।बता दें कि इस डिजिटल करेंसी को सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी नाम दिया गया है इसका रोल आउट देश की कुछ चुनिंदा जगहों पर 1 दिसंबर से किया जाएगा, इसमें कस्टमर से लेकर मर्चेंट तक शामिल किया जाएगा।

लेन-देन के लिए किया जा सकता है इस्तेमाल

यह डिजिटल ई- रुपी डिजिटल टोकन का काम करेगा, आप जान ले कि आरबीआई के द्वारा जारी किए जाने वाले करेंसी नोटों का यह डिजिटल रूप होगा। इसका भी वैल्यू करेंसी नोटों की तरह ही वैध और मान्य है और इसका इस्तेमाल लेनदेन के लिए हो सकता है। यह E रू-R का डिस्ट्रीब्यूशन बैंकों के माध्यम से होगा और इसका इस्तेमाल डिजिटल वॉलेट के माध्यम से व्यक्ति से व्यक्ति या व्यक्ति से मर्चेंट के बीच लेनदेन हो सकता है। रिजर्व बैंक के अनुसार आपको बता दें कि मोबाइल फोन या डिवाइस में स्टोर बैंकों के डिजिटल वॉलेट से डिजिटल रूपी के जरिए लेनदेन कर पाएंगे। अगर आपको किसी मर्चेंट को डिजिटल रूपी में भुगतान करना होगा तो मर्चेंट के पास दिख रहा है कि QR कोड के जरिए किया जा सकता है।

8 बैंकों की पहचान इस पायलट प्रोजेक्ट में भाग लेने के लिए किया गया है हालांकि कि पहले चरण में 4 शहरों में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, आईसीआईसीआई बैंक, यस बैंक, और आईडीएफसी फर्स्ट बैंक के माध्यम से होगा। वहीं उसके बाद बैंक ऑफ बड़ौदा, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, एचडीएफसी बैंक, और कोटक महिंद्रा बैंक इसमें ऐसा मिला।

इनका वैल्यू कागजी नोटों के बराबर ही होगा-

इसको देकर के आप चाहे तो कागजी नोट भी हासिल कर सकते हैं। आरबीआई के द्वारा इसे दो कैटेगरी CBDC-W और CBDC-R में बांटा गया है। आइए इसका मतलब समझते हैं CBDC-W का मतलब होलसेल करेंसी और CBDC-R का मतलब रिटेल करेंसी है। आपको जानकारी दे दें कि भारत की इकोनॉमी को डिजिटल रूप में विकसित करने की दिशा में रिजर्व बैंक के द्वारा उठाए गए कदम को जरुरी माना जा रहा है।

Leave a Comment