गो फर्स्ट की एयरलाइन बंद होने से दोगुने हुए अन्य हवाई टिकट के दाम, यहां पढ़े पुरी जानकारी

हवाई कंपनी गो फर्स्ट ने हाल ही में अपने उड़ाने बंद करने का फैसला लिया था। जिसके बाद देश के लगभग सभी विमान कंपनियों ने अपनी टिकट के दामों को बढ़ा दिया कई हवाई मार्गो पर टिकट के दाम दोगुने हो गए हैं। हाल ही गो फर्स्ट ने अपनी उड़ान रद्द की थी आपको बता दें गो फर्स्ट 1 दिन में तकरीबन 200 उड़ाने भर्ती थी और करीब 30000 यात्री उससे यात्रा करते थे। गो फर्स्ट का प्रचलन बंद होने के बाद दूसरी हवाई कंपनियों ने अपनी टिकट को काफी महंगा कर दिया है। खासतौर पर उन मार्गो के लिए किराया ज्यादा लिया जा रहा है जहाँ पर गो फर्स्ट की उड़ाने आती जाती है।

कितना बढ़ा किराया

मिली जानकारी के मुताबिक आपको बता दें मुंबई और दिल्ली के बीच का किराया पहले से 13000 बढ़ गया है जिसके बाद अब ₹28000 तक पहुंच गया है । वहीं दिल्ली से श्रीनगर के बीच का टिकट का किराया 34000 रूपये मुंबई के लखनऊ के बीच का किराया ₹17000 और दिल्ली से पटना के बीच का टिकट ₹18000 का हो गया है। आपको बता दें यह टिकट की कीमतें लगभग दोगुनी से भी ज्यादा है।

और भी बढ़ सकते हैं टिकट के दाम

इसको लेकर ट्रैवल एजेंट्स और टिकट बुकिंग पोर्टल का अनुमान है कि अभी हवाई टिकटों के दाम और भी बढ़ाए जा सकते हैं। फिलहाल छुट्टियों का मौसम चल रहा है और इसी वक्त टिकट की मांग काफी ज्यादा रहती है। अगर गो फर्स्ट का ऑपरेशन कुछ और वक्त तक रुका रहा तो टिकटों के दाम और भी ज्यादा बढ़ा दिया जाएंगे।

नहीं मिलेगा रिफण्ड

संकटग्रस्त विमान सेवा ने दिवालिया आवेदन दाखिल किया है और इसकी 12 मई तक सभी उड़ानें रद्द कर दी गई हैं। अपने पैसे की वापसी का हज़ारों यात्री इंतजार कर रहे हैं कई को एयरलाइन से क्रेडिट नोट प्राप्त हुए हैं लेकिन या कोई वास्तविक पैसा नहीं है। अपने पैसे की वापसी का इंतजार कर रहे हैं यात्री जब ट्रैवल पोर्टल से संपर्क कर रहे हैं तो उनकी तरफ से यही जवाब मिल रहा है कि जब उन तक पैसा पहुंचेगा तब पैसा वापस किया जाएगा। हालांकि अब ट्रैवल एजेंट्स ने यह बताया कि यदि लोग ट्रेवल एजेंटों के माध्यम से टिकट बुक कर रहे हैं तो रिफंड के मामले में राशि उनके खातों में नहीं आएगा बल्कि विशेष एयरलाइन के वॉलेट में भेजा जाएगा। जब पैसेंजर उसी एयरलाइन पर फिर से फ्लाइट बुक करता है तब इसका उपयोग किया जा सकता है। कंपनी के द्वारा कहा गया कि हम अपने ग्राहकों को कोई रिफंड करने में असमर्थ है।

बड़ी गो फर्स्ट की मुश्किलें

गो फर्स्ट संकट में चल रही है और इसके मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही है अब पट्टेदारों की तरफ से भी विमानों को कैंसिल करने की अर्जी देनी शुरू कर दी गई है। अब तक कुल 20 विमान वापस लेने की याचिका डाली गई है। कुछ रिपोर्ट की मानें तो गो फर्स्ट ने अपने दिवालिया अर्जी में यह कहा है कि उसके पास करीब 6521 करोड रुपए की देनदारी है। सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया का कर्ज 1987, बीओबी ने 1430 करोड़ रुपए का कर्ज और ड्यूश बैंक ने 1320 करोड़ रुपए का कर्ज दिया है।

Leave a Comment