राजस्थान में 41000 करोड़ की लागत से 4 ग्रीनफ़ील्ड एक्सप्रेस-वे का हो रहा निर्माण, नितिन गडकरी ने ट्विटर के माध्यम से दी जानकारी

राजस्थान में एक्सप्रेसवे बनना चालू हो चुका है जिसमें कि 41000 करोड़ की लागत लग रही है। जानकारी के लिए आपको बता दें इसमें 4 ग्रीन फील्ड एक्सप्रेसवे और इकोनामिक कॉरिडोर का निर्माण किया जाएगा। इस बात की जानकारी खुद नितिन गडकरी ने सोशल साइट के माध्यम से दी है। आइए जानते हैं क्या है पूरा मामला विस्तार से –

1. दिल्ली -मुंबई एक्सप्रेस वे

एक करोड़ की लागत से 1382 किलोमीटर, 8 लेन एक्सेस कंट्रोल दिल्ली मुंबई ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस वे बन रहा है। राजस्थान में 16600 करोड़ की लागत से 374 किलोमीटर में 115 किलोमीटर का काम पूरा हो चुका है। अगर बात की जाए कि ये एक्सप्रेस-वे कहां-कहां से होकर गुजरेगा तो ये एक्सप्रेस-वे अलवर भरतपुर दौसा सवाई माधोपुर टोंक बूंदी और कोटा से होकर गुजरेगा।

2. अमृतसर- जामनगर इकोनामिक कॉरिडोर

22500 करोड़ की लागत से अमृतसर से जामनगर तक 917 किलोमीटर 6 लेन इकोनामिक कॉरिडोर बन रहा है। जिसमें से 14 हजार करोड़ की लागत से 650 किलोमीटर तक का कॉरिडोर बनकर तैयार भी हो गया है। वही राजस्थान में 637 किलोमीटर 6 लाइन इकनॉमिक कॉरीडोर में से 215 किलोमीटर तक का बनकर तैयार भी हो गया है। पंजाब में यही कोरिडोर 155 किलोमीटर और गुजरात में 125 किलोमीटर तक का बनाया जा रहा है। तैयार किया जा रहा अमृतसर जामनगर इकोनामिक कॉरिडोर पंजाब राजस्थान हरियाणा और गुजरात के 15 जिलों से होकर गुजर रहा है जिसमें से राजस्थान के श्रीगंगानगर हनुमानगढ़ बीकानेर जोधपुर बाड़मेर और जालौर से होकर जाएगा। जानकारी के लिए आपको बता दें कि यह देश का एक ऐसा कॉरिडोर है जो कि 3 रिफाइनरी – पंजाब की बठिंडा रिफायनरी, राजस्थान की बाड़मेर रिफाइनरी और गुजरात की जामनगर रिफायनरी को एक साथ जोड़ेगा। वही साथ में ही कॉरिडोर 789 एयरपोर्ट और 1 MMLP से भी जुड़ेगा। इस कॉरिडोर में 32 वे-साइड एमेनिटीज का निर्माण किया जा रहा है जिसमें से मोटल, रेस्त्रां, एटीएम इत्यादि बनाए जा रहे हैं। वही इस कॉरिडोर की यातायात का बंधन एडवांस ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम द्वारा किया जाएगा।

3. अंबाला- कोटपुतली इकोनामिक कॉरिडोर

अंबाला से कोटपुतली तक 11375 करोड़ की लागत से 313 किलोमीटर, 6 लेन एक्सेस कंट्रोल इकोनामिक कॉरिडोर का निर्माण किया जा चुका है। जानकारी के लिए आपको बता दें इस कॉरिडोर के बनने से राजस्थान से कुरुक्षेत्र रोहतक भिवानी अंबाला होकर पंजाब आना-जाना आसान हो गया है। वहीं यह कॉरिडोर कैथल एवं जींद में राजस्थान को दिल्ली- कटरा एक्सप्रेस वे से जोड़ेगा। इस कॉरिडोर के बनने से अंबाला से कोटपुतली तक के बीच की लगभग 50 किलोमीटर तक की दूरी कम हो गई है। वहीं इससे कॉरिडोर को हरियाणा के नांगल चौधरी में बनने वाले MMLP से भी जोड़ा गया है।

4. अंबाला- चंडीगढ़ ग्रीन फील्ड कॉरिडोर

1641 करोड़ की लागत से अंबाला से चंडीगढ़ तक 30.2 किलोमीटर और छह लेन ग्रीन फील्ड कॉरिडोर का निर्माण हो रहा है। कनेक्टिविटी की बात करें तो इस कॉरिडोर के निर्माण से राजस्थान से अंबाला होकर चंडीगढ़ से शिमला जैसे पर्यटक स्थलों पर जाने के लिए सीधी कनेक्टिविटी हो जाएगी।

Leave a Comment