अच्छी खबर-अब यूपी के सरकारी स्कूल बनेंगे मॉडल, मिलेंगी कान्वेंट जैसे सुविधाएं, जानिए क्या है खास तैयारी

आपको बता दे कि उत्तर प्रदेश के सरकारी स्कूलों में कन्वेंट स्कूलों की जैसे सुविधाएं देने की तैयारी चल रही है। परिषदीय स्कूलों में कान्वेंट जैसी सुविधाएं देने के लिए जिले के 10 सर्वश्रेष्ठ स्कूल उच्च कृत कर मॉडल बनाए जाने की योजना है। बीएसए के द्वारा ऐसे विद्यालयों का स्थलीय सत्यापन व आवश्यकताओं का आंकलन करके कार्य योजना तैयार करेंगे, बता दें कि जरूरत के आधार पर इन विद्यालयों में कंप्यूटर लैब, साइंस लैब, लाइब्रेरी वह स्मार्ट क्लास की स्थापना भविष्य में की जाएगी ताकि इन विद्यालयों के विद्यार्थियों को आधुनिक शैक्षणिक परिवेश में शिक्षा प्राप्त करने का लाभ मिल सके। साइट प्लान बनाने के लिए चिन्हित प्रति स्कूल ₹1000 मिलेंगे।

कंप्यूटर लैब, साइंस लैब, लाइब्रेरी और स्मार्ट क्लास से होंगे लेस

आपको बता दें कि योजना के अंतर्गत 1 से 8 तक के कक्षाओ की ही स्कूल ही ऊंची कृत होंगे, विभाग के द्वारा महानिदेशक स्कूल शिक्षा के निर्देश के बाद तैयारियां शुरू कर दिया है। इस योजना के अनुसार यूपी के हर जिले में 10 अच्छे स्कूलों का चयन करके गैप एनालिसिस किया जा रहा है अगर स्कूलों में शौचालय, टाइल्स, रंगाई पुताई, ब्लैक बोर्ड चारदीवारी है तो वहां कंप्यूटर लैब, साइंस लैब, लाइव स्मार्ट क्लास स्थापित करके उसे मॉडल स्कूल बनाया जा सके।

मांगी गई सूचनाएं-

ऐसे विद्यालयों का चयन हो जहां एक से आठवीं तक की कक्षाएं चलती हो।
विद्यालयों का आवंटन राज्य स्तर से प्रेरणा पोर्टल के माध्यम से किया जाएगा
विद्यालय का 60 सेकंड का वीडियो तैयार कर लिया जाए, ताकि विद्यालय का संपूर्ण भौतिक परिवेश का आकलन किया जा सके।

ऑटोकैड के माध्यम से विद्यालय परिसर का एक ले-आउट तैयार करके प्रेरणा पोर्टल पर अपलोड किया जाए।

प्रस्तावित सिविल कार्य का फोटो लेकर पोर्टल पर अपलोड करना होगा। जैसे विद्यालय परिसर के उच्चीकरण के लिए जिस स्तर पर किसी प्रकार का सिविल कार्य प्रस्तावित किया जाता है।

यदि विद्यालय में संलग्न प्रारूपों से पृथक अन्य कोई सिविल कार्य प्रस्तावित है तो उसकी कार्य योजना अलग तथ्यों के साथ प्रेरणा पोर्टल पर अपलोड करना होगा।

Leave a Comment